Friday, August 19, 2022
Homeउत्तराखण्डगढ़वाल विश्वविद्यालय से एक आग्रह

गढ़वाल विश्वविद्यालय से एक आग्रह

डॉ योगेश धस्माना

हेमवती नंदन बहुगुणा गढ़वाल विश्वविद्यालय ने लोक गायक नरेंद्र सिंह नेगी को डी लिट की उपाधि देकर प्रशंसनीय कार्य किया है I 1973 में गढ़वाल कुमाऊं विश्वविद्यालय की स्थापना किस समय कहा गया था कि , यह विश्वविद्यालय डिग्री प्रदान करने वाले न बने I बल्कि क्षेत्र की सामाजिक-आर्थिकी को मजबूत करने की दिशा में , अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाएं I लोक कलाओं के संरक्षण और संवर्धन के लिए विश्वविद्यालय को चाहिए कि , वे नरेंद्र सिंह नेगी सहित गंभीर चिंतकों को विजिटिंग प्रोफेसर बनाकर , इस कार्य में शोधार्थियों को छात्रवृत्ति प्रदान कर विलुप्त होती लोक संस्कृति के साहित्य और वाद्य यंत्रों को बचाने के लिए आगे आएं I

इसके लिए विश्वविद्यालय को यह भी चाहिए कि वह उत्तराखंड लोक सेवा आयोग सहित प्रतियोगी परीक्षाओं में लोक भाषाओं को पाठ्यक्रम में शामिल करने पर अपनी संस्तुति दें I

असम राज्य के गुवाहाटी विश्वविद्यालय में भूपेन हजारीका की स्मृति में एक लोक कला संग्रहालय स्थापित किया हैI क्या हमारे विश्वविद्यालय के कुलपति भी इस तरह का कदम उठाकर , पहाड़ के लोक गायकों के साहित्य को एक जगह , संग्रहालय के रूप में स्थापित करने का निर्णय लेंगे ? क्या विश्वविद्यालय की कार्यपरिषद और साथ में अकादमिक कौंसिल , गोरदा , गुमानी , चंद्र कुंवर ,डॉक्टर पीतांबर दत्त बड़थ्वाल , कन्हैयालाल डेंड्रियाल , सुमित्रानंदन पंत , मौलाराम, श्रीदेव सुमन , भजन सिंह , श्रीमन , आदि के साहित्य लोक गाथाओं के संरक्षण को पाठ्यक्रम का हिस्सा बनाएगी ? या फिर मात्र डिग्री बांधकर उच्च शिक्षा की इतिश्री कर देगी ? हमारा विश्वविद्यालय से आग्रह है कि वह लोक गायक नरेंद्र सिंह नेगी को आजीवन विजिटिंग प्रोफेसर बनाकर , इस दिशा में उनका वास्तविक सम्मान करने के लिए आगे आए I

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments