Friday, June 21, 2024
Homeउत्तराखण्डरेस्टोरेंट परिसर की झोपड़ियों में लगी आग

रेस्टोरेंट परिसर की झोपड़ियों में लगी आग

 
रुड़की। शहर के एक रेस्टोरेंट के परिसर में बनी झोपड़ियों में आग लग गई। आग लगने की सूचना दमकल विभाग को दी गई। सूचना पाकर पहुंची दमकल विभाग की टीम ने कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया और एक बड़ा हादसा होने से बचा लिया गया। हालांकि ढाबे पर बनी कई झोपड़ियां और उनमें रखा सामान जलकर राख हो गया। गनीमत रही कि कोई जनहानि नहीं हुई। वहीं समय रहते अगर आग पर काबू नहीं पाया जाता तो एक बड़ा हादसा हो सकता था।
जानकारी के अनुसार 26 अप्रैल शुक्रवार की सुबह 3 बजकर 36 मिनट पर फायर स्टेशन रुड़की को सूचना मिली कि पिरान कलियर थाना क्षेत्र के धनोरी-भगवानपुर मुख्य मार्ग के पास बेडपुर रोड स्थित एक रेस्टोरेंट के बाहर बनी झोपड़ियों में आग लगी है। इस सूचना पर तत्काल दमकल विभाग की टीम मौके पर पहुंची। घटनास्थल पर पहुंचकर टीम ने देखा कि रेस्टोरेंट के बाहर बनी झोपड़ियों में भयंकर आग लगी थी। आग की लपटें आसमान छू रही थीं और पेट्रोल पंप नजदीक होने की वजह से बड़ा हादसा भी हो सकता था।
फायर ब्रिगेड की टीम ने तुरंत ही हाई प्रेशर वाहन से होज‌‌‌ रील फैलाकर पंपिंग कर उक्त आग को बुझाना शुरू किया। आग की अधिकता एवं पेट्रोल पंप की संवेदनशीलता को देखते हुए फायर यूनिट भगवानपुर से भी एक फायर टेंडर को मौके पर बुलाया गया। जिसके बाद टीम ने कड़ी मशक्कत से आग को पूर्ण रूप से बुझाया। इसी के साथ टीम ने पेट्रोल पंप की ओर बढ़ रही आग को भी रोका। पेट्रोल एक अति ज्वलनशील पदार्थ है। समय रहते कार्रवाई नहीं की गई होती तो एक बड़ा हादसा और नुकसान हो सकता था।
फायर ब्रिगेड की टीम ने पेट्रोल पंप और रेस्टोरेंट को भी जलने से बचा लिया। उक्त रेस्टोरेंट और ढाबे को लीज पर राशिद और गुलजार निवासी बहादराबाद द्वारा संचालित किया जा रहा था। दोनों मौके पर मौजूद नहीं थे। ‌वहीं उक्त रेस्टोरेंट ढाबा और पेट्रोल पंप के मुख्य स्वामी हाजी रईस अहमद पुत्र सिधा हसन निवासी वेडपुर थाना कलियर स्वयं मय परिजनों के मौके पर मौजूद थे। पेट्रोल पंप स्वामी द्वारा आग बुझाने पर राहत की सांस ली गई और फायर यूनिट के कार्यों की खुले मन से प्रशंसा की गई। बताया गया है कि आग से तीन या चार घास की झोपड़ियां, कुर्सी, मेज व अन्य सामान जलकर राख हो गये. कोई जनहानि नहीं हुई।

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments